केंद्रशासित प्रदेश क्या होते है। राज्य व इनमें क्या अंतर होता है ?

आज की इस पोस्ट में हम "केंद्रशासित प्रदेश" टॉपिक के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देने वाले है। इस पोस्ट में हम आपको इन सभी सवालो के जबाव देंगे जैसे -

  • केंद्रशासित प्रदेश क्या होते है ?
  • केंद्रशासित प्रदेश और राज्य में क्या अंतर होते है ?
  • भारत में कुल कितने केंद्रशासित प्रदेश है ?
  • केंद्रशासित प्रदेश क्यों बनाये जाते है ?
  • भारत के सभी केंद्रशासित प्रदेशों की राजधानियों के नाम स्थापना तिथि 

तो आइये आज की इस पोस्ट को शुरू करते है। यह पोस्ट प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे स्टूडेंट्स और जनरल नॉलेज में रुचि रखने वाले व्यक्तियों के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी।


Union-Territories-of-india-kendrashasit-pradesh-rajdhani

केंद्रशासित प्रदेश क्या होता है ? यूनियन टेरिटरी मीनिंग इन हिन्दी


केंद्रशासित प्रदेशों को इंग्लिश में Union Territories के नाम से भी जाना जाता है। इन प्रदेशों को संघ-राज्यक्षेत्र या संघक्षेत्र भी कहा जाता है।

केंद्रशासित प्रदेश की खुद की कोई सरकार नहीं होती है। इन प्रदेशों पर केंद्र सरकार का सीधा नियंत्रण होता है।

लेकिन यदि किसी केंद्रशासित प्रदेश की खुद की कोई सरकार हो भी तो उस सरकार के अधिकार बहुत सीमित होते है। भारत में दिल्ली और पडुचेरी केंद्रशासित प्रदेश होने के बावजूद इनमें खुद की सरकार है। लेकिन इनके अधिकार सीमित होते है।

केंद्रशासित प्रदेश की प्रशासनिक व्यवस्था को बनाये रखने के लिए राष्ट्रपति द्वारा एक प्रशासक या उप-राज्यपाल की नियुक्ति की जाती है। इस उप-राज्यपाल को इंग्लिश में लेफ्टिनेंट गवर्नर कहा जाता है।

किसी केन्द्र्शासित प्रदेश में लेफ्टिनेंट गवर्नर राष्ट्रपति के प्रतिनिधि के रूप में कार्य करता है।

केंद्रशासित प्रदेश में लेफ्टिनेंट गवर्नर द्वारा ही शासन व्यवस्था संभाली जाती है। केंद्र सरकार द्वारा लागू कानून या योजनाओं आदि का क्रियान्वन किया जाता है।

लेकिन यदि किसी केंद्रशासित प्रदेश में खुद की सरकार हो जैसे दिल्ली और पडुचेरी में खुद की सरकार है तो उस विधानसभा में पारित किया गया कानून उस केंद्रशासित प्रदेश में लागू करने के लिए राष्ट्रपति की मंजूरी लेनी पड़ती है।


केंद्रशासित प्रदेश के अधिकांश अधिकार उप-राज्यपाल के पास होते है।

यही कारण है की दिल्ली और पुडुचेरी में मुख्यमंत्री होने के बावजूद उनके अधिकार बहुत सीमित होते है। मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश में कुछ भी कानून लागू करने से पहले केंद्रसरकार,राज्यपाल,राष्ट्रपति की मंजूरी लेनी बहुत आवश्यक होती है।

वर्तमान में भारत में 8 केंद्रशासित प्रदेश है। हाल ही में सरकार द्वारा जम्मू - कश्मीर राज्य को 2 नए केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया गया है। जिनका नाम क्रमश : जम्मू -कश्मीर और लद्दाख है।

31 अक्टूबर,2019 से जम्मू -कश्मीर और लद्दाख दो नए केंद्रशासित प्रदेश बन हो चुके है।

दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव पहले अलग - अलग केंद्रशासित प्रदेश थे। लेकिन अब यह संयुक्त रूप से "दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव" नाम से एक ही केंद्रशासित प्रदेश है। दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव (केंद्र शासित प्रदेशों का विलय) विधेयक, 2019 से हुआ है. इस विधेयक को लोकसभा ने 27 नवंबर, 2019 को और राज्यसभा ने 03 दिसंबर, 2019 को पारित किया था.

अब केंद्र शासित प्रदेश दमन और दीव को केंद्र शासित प्रदेश, दादरा और नगर हवेली के साथ मिलाकर एक नए केंद्र शासित प्रदेश ‘दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव’ को बना दिया गया है. यह 26 जनवरी 2020 से अस्तित्व में आ गया है.

नीचे आप भारत के 8 केंद्रशासित प्रदेशों के नाम व स्थापना तिथि की जानकारी प्राप्त कर सकते है।

क्रम संख्या
केंद्रशासित प्रदेश का नाम
केंद्रशासित प्रदेश की राजधानी व स्थापना तिथि
1
दिल्ली
नवम्बर,1956
2
जम्मू और कश्मीर
31 अक्टूबर,2019
3
पुडुचेरी
नवम्बर,1954
4
अंडमान और निकोबार द्वीप
नवम्बर,1956
5
चंडीगढ़
नवम्बर,1966
6
दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव
26 जनवरी,2020
7
लक्षद्वीप
नवम्बर,1956
8
लद्दाख
31 अक्टूबर,2019


केंद्रशासित प्रदेश और राज्य में क्या अंतर होता है ?


1 - राज्यों में खुद की सरकार होती है। जबकि केंद्रशासित प्रदेश पर केंद्रसरकार का नियंत्रण होता है।

2 - राज्य का मुखिया मुख्यमंत्री होता है। लेकिन केंद्रशासित प्रदेश का मुखिया लेफ्टिनेंट गवर्नर होता है।

3 - राज्य सरकार द्वारा विधानसभा में किसी भी कानून को पारित करवाने के बाद उसे राज्य में लागू करने के लिए केंद्रसरकार की अनुमति की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

लेकिन यदि केंद्रशासित प्रदेश की सरकार है तो उसे विधानसभा में कानून पारित करवाने के बाद उसे प्रदेश में लागू करने के लिए राष्ट्रपति की मंजूरी की अवश्यकता होती है।

4 - राज्य में जिस राज्यपाल की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है उसके समस्त अधिकारों का इस्तेमाल उस राज्य की विधानसभा और मंत्रीमण्डल द्वारा किया जाता है।

लेकिन केंद्रशासित प्रदेश में उप राज्यपाल के अधिकारों का इस्तेमाल वह खुद प्रदेश में प्रशासनिक व्यवस्था को बनाये रखने के लिए करता है।

केंद्रशासित प्रदेश क्यों बनाये जाते है ?


आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा की जब भारत में राज्य है तो अलग से कुछ प्रदेशों को केंद्रशासित प्रदेश घोषित क्यों किया जाता है। वैसे किसी भी प्रदेश को यूनियन टेरिटरी घोषित करने के पीछे बहुत से कारण होते है। लेकिन कुछ कारणों के बारे में हम आपको बता रहे है।

1956 में राज्यों के पुनर्गठन पर चर्चा के दौरान, राज्य पुनर्गठन आयोग ने इन विशेष प्रदेशों के लिए एक अलग श्रेणी के निर्माण की सिफारिश की क्योंकि वे विशेष क्षेत्र किसी भी प्रकार से एक राज्य के मॉडल के रूप में स्थापित नहीं हो सकते थे।

यह देखा गया कि ये आर्थिक रूप से असंतुलित, आर्थिक रूप से कमजोर और प्रशासनिक और राजनीतिक रूप से अस्थिर क्षेत्रों को राज्य घोषित नहीं किया जा सकता था। इस कारण यह क्षेत्र केंद्र सरकार पर ही निर्भर रहते है। इन सभी कारणों को ध्यान में रखते हुए केंद्र शासित प्रदेश का गठन किया गया।

भारत का पहला केंद्रशासित प्रदेश कौनसा था ?


यह सवाल प्रतियोगी परीक्षाओं में अक्सर पूछा जाता है। अंडमान और निकोबार द्वीप भारत का पहला केंद्र शासित प्रदेश था।

दिल्ली और पुडुचेरी दूसरे केंद्रशासित प्रदेशों से कैसे भिन्न है ?


वैसे तो भारत में किसी केंद्रशासित प्रदेश की खुद की कोई चुनी गयी सरकार,विधायिका,उनके निर्वाचित सदस्य और मुख्यमंत्री नहीं होते है। ,

लेकिन दिल्ली और पुडुचेरी प्रदेश में खुद की निर्वाचित विधायिका और सरकार,उनके निर्वाचित सदस्य और मुख्यमंत्री हैं। क्योकि केंद्रसरकार द्वारा संविधान संशोधन करके इन 2 केंद्रशासित प्रदेशों को आंशिक राज्य का अधिकार प्रदान किया गया है। इसी कारण इन दोनों के पास अपनी विधान सभा और कार्यकारी परिषद है और ये राज्यों की तरह काम करते हैं।

इस कारण इन 2 केंद्रशासित प्रदेशों में यह मांग उठती रहती है की उनको पूर्ण राज्य का दर्जा प्रदान किया जाये। जिससे यहाँ के मुख्यमंत्री अपनी पूर्ण शक्ति और अधिकारों का इस्तेमाल करके प्रदेश में बेहतर प्रशासन व्यवस्था चला सके।


केंद्रशासित प्रदेशों की राजधानी के नाम - 


दिल्ली एक केंद्रशासित प्रदेश है इसकी राजधानी का नाम नयी दिल्ली है।

अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह केंद्रशासित प्रदेश की राजधानी पोर्ट ब्लेयर है।

चंडीगढ़ भारत का एक केन्द्र शासित प्रदेश है, जो दो भारतीय राज्यों, पंजाब और हरियाणा की राजधानी भी है।

दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव केंद्रशासित प्रदेश की राजधानी दमन है।

लक्षद्वीप भी एक केंद्रशासित प्रदेश है। इसकी राजधानी कवरत्ती है।

पुडुचेरी की राजधानी खुद पुडुचेरी ही मानी जाती है।

जम्मू और कश्मीर पहले राज्य था। लेकिन 5 अगस्त 2019 को केंद्रसरकार ने घोषणा के अनुसार इसे केंद्रशासित प्रदेश घोषित किया जायेगा।  31 अक्टूबर 2019 से यह एक नए केंद्रशासित प्रदेश के रूप में मान्य है।

जम्मू और कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश की श्रीनगर (ग्रीष्मकालीन) राजधानी है और जम्मू (शीतकालीन) राजधानी है। इस केंद्रशासित प्रदेश की दो राजधानियाँ है।

लद्दाख एक केंद्रशासित प्रदेश है,जिसकी घोषणा 5 अगस्त 2019 को की गयी थी। और 31 अक्टूबर 2019 से यह केंद्रशासित प्रदेश बन चुका है। इसकी राजधानी लेह है।

यदि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी है तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे। हर दिन "AMOJEET - हिन्दी ब्लॉग" पर नवीन लेख जरूर पढे।
--
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।