कोरोना वायरस से जुड़ी जानकारी - 31 मई तक बढ़ा लॉकडाउन

पूरे देश में लॉकडाउन बढ़ा दिया गया हैं। अब 31 मई तक लॉकडाउन प्रभावी रहेगा। सरकार द्वारा 31मई तक बढ़ाये गये Lockdown का पालन जरूर करे। कोरोना जैसी महामारी को देश में फैलने से रोकने के लिये और खुद इससे बचने के लिये घर से बाहर न निकले। सरकार द्वारा दिये जा रहे निर्देशों का पालन जरूर करे।

Software क्या हैं और इसके प्रकार की जानकारी

आज की इस पोस्ट में हम कम्प्युटर से जुड़ी जानकारी शेयर करने वाले हैं। इस पोस्ट में हम Computer Software क्या होते हैं ? कम्प्युटर सॉफ्टवेयर के कितने प्रकार होते हैं ? जैसे सवालों के जबाव देने वाले हैं। यदि आप कम्प्युटर सीखना चाहते है या फिर कम्प्युटर सीख रहे हैं तो इस पोस्ट को बड़े ही ध्यान से पढे।


कम्प्युटर में हम बहुत से कार्य करते हैं। जैसे फोटो एडिट करना,विडियो एडिट करना,विडियो देखना,गाना सुनना आदि। यह सभी कार्य हम प्रोग्राम्स के द्वारा करते हैं। कम्प्युटर में ऐसे बहुत से प्रोग्राम होते हैं जिसके द्वारा हम अलग - अलग कार्य कर सकते हैं। इन प्रोग्राम्स को ही सॉफ्टवेयर कहते हैं।

computer-software-kya-hota-hai-hindi-mei-jankari


Computer Software क्या होते हैं ? कम्प्युटर सॉफ्टवेयर के प्रकार


Computer Software एक विशेष प्रकार के Programs होते हैं जिसमें बहुत से निर्देशों का समूह होता है,यह निर्देशों का समूह एक विशेष Programming Language ( प्रोग्राममिंग भाषा ) में लिखा होता हैं। इसके द्वारा एक विशेष कार्य को पूरा किया जाता हैं।

कम्प्युटर सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते हैं।

  • System Software
  • Application Software

सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या होते हैं ? 


सिस्टम सॉफ्टवेयर ऐसे सॉफ्टवेयर होते हैं,जो यूजर और कम्प्युटर के हार्डवेयर के मध्य संयोजन का कार्य करते हैं। जब भी कोई उपयोगकर्ता कम्प्युटर का इस्तेमाल करता हैं तो सबसे पहले सिस्टम सॉफ्टवेयर ही काम करता हैं। System Software के कई प्रकार होते हैं जैसे -

Operating System - ऑपरेटिंग सिस्टम को शॉर्ट में OS भी कहा जाता हैं। यह कम्प्युटर उपयोगकर्ता और दूसरे सॉफ्टवेयर के मध्य एक इंटरफ़ेस का कार्य करता हैं। यह किसी भी सॉफ्टवेयर को कम्प्युटर में चलने के लिए एक मंच प्रदान करता हैं। जैसे - Windows OS,Android OS,Linux,

आजकल अधिकांश कम्प्युटर में ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में Windows Software होता हैं। विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर  किसी भी दूसरे सॉफ्टवेयर को कम्प्युटर में चलाने के लिए एक मंच प्रदान करता हैं।

System Utilities - जब भी हम किसी कम्प्युटर में कोई Operating System Software इन्स्टाल करते हैं तो उसके साथ कुछ छोटे सॉफ्टवेयर भी कम्प्युटर में इन्स्टाल हो जाते हैं। मान लीजिये कि यदि मैं अपने कम्प्युटर में Windows OS को इन्स्टाल करूंगा तो उसके साथ कुछ अन्य प्रोग्राम जैसे Disk Cleanup,Disk Defragmenter भी सिस्टम यूटीलिटिज के रूप में इन्स्टाल हो जायेंगे।

Device Drivers - कम्प्युटर के साथ हम जितने भी Hardware जैसे Keyboard,Hard disk,Mouse आदि Connect करते हैं तो उसको Computer के System के साथ जोड़ने के लिए डिवाइस ड्राईवर प्रोग्राम होते हैं। हर किसी hardware के लिए यह अलग - अलग होते हैं।

मान लीजिये कि यदि हमारे कम्प्युटर में कीबोर्ड का डिवाइस ड्राईवर प्रोग्राम नहीं हैं तो जब हम कम्प्युटर के साथ Keyboard कनैक्ट करेंगे तो कम्प्युटर का सिस्टम कीबोर्ड को कनैक्ट ही नहीं करेगा। इस कारण डिवाइस ड्राईवर कम्प्युटर में किसी भी हार्डवेयर को कनैक्ट करने के लिए बहुत जरूरी होते हैं।

Application Software क्या होते हैं ? 


एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर वे होते हैं जिनको किसी विशेष कार्य को करने के लिए तैयार किया जाता हैं। यह ऐसे सॉफ्टवेयर होते हैं जिनको कम्प्युटर उपयोगकर्ता कम्प्युटर में ऐड कर सकते हैं। यह एंड यूजर प्रोग्राम भी कहलाते हैं। इनको यूजर की जरूरत के हिसाब से तैयार किया जाता हैं।

जैसे मान लीजिये की कोई Computer User अपने कम्प्युटर में Photo Editing करना चाहता हैं तो उसके लिए Photo Editing Software होते हैं। जिसे वह अपने कम्प्युटर में इन्स्टाल कर सकता हैं। एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर को हिन्दी में "ऐप्स" भी कहा जाता हैं।
एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर बहुत प्रकार के होते हैं क्योंकि यह अलग - अलग कार्य के लिए तैयार किए जाते हैं जैसे -

  • डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम ऐप्स
  • इमेज एडिटर
  • विडियो एडिटर
  • वर्ड प्रॉसेसर

मान लीजिये कोई कम्प्युटर उपयोगकर्ता अपने कम्प्युटर में इंटरनेट चलाना चाहता हैं तो उसे एक Application Software की जरूरत पड़ेगी। एक ऐसा एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर जिसके द्वारा किसी कम्प्युटर या मोबाइल में इंटरनेट चलाया जा सकता हैं उसे वेब ब्राउज़र कहा जाता हैं ।


अब बहुत से Web Browser उपलब्ध है जैसे माइक्रोसॉफ़्ट एज,गूगल क्रोम,मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स आदि।

Windows Operating System वाले कम्प्युटर में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर Microsoft Office Suite हैं। इस प्रोग्राम में बहुत से सॉफ्टवेयर मिलते है जिसका इस्तेमाल करके हम ऑफिस से संबंधित सभी कार्य आसानी से कम्प्युटर पर ही कर सकते हैं।

Application Software Versus System Software ( एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर और सिस्टम सॉफ्टवेयर में क्या अंतर होता हैं ? )


नीचे सारणी में हम कुछ प्रमुख अंतर सूचीबद्ध कर रहे हैं।

System Software
Application Software
किसी भी कम्प्युटर को चलाने के लिए सिस्टम सॉफ्टवेयर अनिवार्य होता हैं।
एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर कम्प्युटर को चलाने के लिए अनिवार्य नहीं होता हैं।
हर एक कम्प्युटर को एक सिस्टम सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती हैं।
कम्प्युटर में उपयोगकर्ता अपनी जरूरत के हिसाब से एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर को इन्स्टाल कर सकता हैं।
बिना सिस्टम सॉफ्टवेयर के कम्प्युटर कार्य नहीं कर सकता हैं।
कोई विशेष एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर न होने पर कम्प्युटर में वह विशेष कार्य ही नहीं किया जा सकता हैं। बाकी सभी कार्य कम्प्युटर में किए जा सकते हैं।

यदि "Computer Software क्या होता हैं ?" टॉपिक पर यह पोस्ट आपको अच्छी लगी हैं तो इसे सोश्ल मीडिया पर शेयर जरूर करे। इसी तरह कम्प्युटर से जुड़ी सभी जानकारी,टिप्स एंड ट्रिक्स के लिये आप इस ब्लॉग की कम्प्युटर श्रेणी की पोस्ट्स को पढ़ सकते हैं।
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a Comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।