CPU का फुल फॉर्म,सीपीयू क्या हैं ?

इस पोस्ट में हम CPU का फुल फॉर्म क्या होता हैं और सीपीयू क्या हैं और यह कैसे काम करता हैं ? टॉपिक पर जानकारी पब्लिश कर रहे हैं। यदि आप कम्प्युटर में रुचि रखते हैं तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पढे।

हमारे मोबाइल,लैपटाप,कम्प्युटर आदि में सीपीयू होता हैं। इसके बारे में जानना बहुत जरूरी हैं। तो आइये आज की इस पोस्ट की शुरुवात करते हैं।

CPU-ka-full-form-kya-hota-hai

सीपीयू का फुल फॉर्म हिन्दी और इंग्लिश में क्या हैं ? CPU Full Form in Hindi


सीपीयू का फुल फॉर्म हिन्दी में केंद्रीय प्रक्रमन एकक (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) होता हैं। CPU का इंग्लिश में Full Form "Central Processing Unit" होता हैं। कम्प्युटर सिस्टम के प्रॉसेसर को ही सीपीयू कहा जाता हैं।

सीपीयू को कम्प्युटर का मस्तिष्क भी कहा जाता हैं। यह कम्प्युटर के मदरबोर्ड में एक विशेष जगह सीपीयू सॉकेट में लगाया जाता हैं। सीपीयू एक सेमीकंडक्टर चिप के रूप में होता हैं,जिसे प्रॉसेसर कहा जाता हैं। कम्प्युटर सिस्टम में जितनी भी प्रोसेसिंग होती हैं,उसको प्रोसैस करने का कार्य सीपीयू ही करता हैं।

CPU क्या होता हैं ? सीपीयू कैसे काम करता हैं ?


मानव शरीर में जिस प्रकार सोचने,विचारने,कोई क्रिया करने ,शरीर को नियंत्रण में रखने संबंधी जितने भी कार्य मस्तिष्क द्वारा किये जाते हैं ठीक उसी प्रकार एक कम्प्युटर सिस्टम में होने सभी सभी कार्य जैसे डाटा प्रोसेसिंग,यूजर द्वारा दिये गये निर्देशों को प्रोसैस करना, बुनियादी अंकगणितीय और तार्किक प्रोसेसिंग संबंधी जितने भी कार्य होते हैं उनको CPU ही पूर्ण करता हैं।

इस कारण एक कम्प्युटर सिस्टम में सीपीयू एक आवश्यक कॉम्पोनेंट होता हैं। एक CPU सेमीकंडक्टर चिप होता हैं,जिसे सामान्य बोलचाल की भाषा में Processor कहा जाता हैं।

सीपीयू के तीन घटक होते हैं। कहने का भाव यह हैं कि,कम्प्युटर के CPU में तीन यूनिट होती हैं जो मिलकर कार्य करती हैं।
CPU के Compnent निम्न हैं -

  • Arthmetical Logical Unit जिसे ALU भी कहा जाता हैं।
  • Control Unit
  • Registers

Central Processing Unit (CPU) = Arithmetical Logical Unit (ALU) + Control Unit (CU)

Arthmetical Logical Unit : यह सीपीयू का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह सभी तार्किक और अंकगणितीय संचालन करने के लिए जिम्मेदार है। सीपीयू में  Arithmetic और Logic Unit को एक साथ Arithmetical Logical Unit कहा जाता हैं। इस यूनिट का Arithmetic भाग बुनियादी अंकगणितीय डाटा प्रोसेसिंग का कार्य जैसे जोड़,गुना,घटाव आदि कार्य करता हैं। जबकि Logical Unit के द्वारा तार्किक कार्य जैसे तुलना,=,<,> आदि किये जाते हैं।

Control Unit : यह सीपीयू का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह किसी विशेष कार्य को पूरा करने के लिए संपूर्ण कंप्यूटर सिस्टम को निर्देश देता है। एक कम्प्युटर सिस्टम में सीपीयू का कंट्रोल यूनिट डेटा प्रोसेसिंग से जुड़े हुये कार्य करता हैं। कंट्रोल यूनिट के द्वारा ही प्रोग्राम्स में निहित निर्देशों को समझा जाता हैं।

यह कम्प्युटर की मेमोरी और अर्थमेटिक और लॉजिक यूनिट के मध्य ईलेक्ट्रोनिक सिगनल की गतिविधि को व्यवस्थित करता हैं। यह कम्प्युटर के सभी इनपुट और आउटपुट उपकरणों के मध्य भी ईलेक्ट्रोनिक सिग्नल को व्यवस्थित रखते हैं।

Registers: रजिस्टर विशेष प्रकार के मेमोरी डिवाइस होते हैं। वे उन डेटा को संग्रहीत करते हैं जिन्हें प्रोसेसर द्वारा सबसे पहले प्रोसैस किया जायेगा या जिसे पहले से ही प्रोसैस कर लिया गया हैं।

कंप्यूटर में सीपीयू या प्रोसेसर बनाने के लिये किस सामग्री का इस्तेमाल किया जाता हैं ? सीपीयू कितने प्रकार का होता हैं ?


CPU सिलिकॉन, कॉपर और प्लास्टिक नामक तीन प्रमुख सामग्रियों से बनाया जाता हैं। सीपीयू का कार्य डेटा को प्रोसैस करना होता हैं इस कारण यह बहुत अधिक गर्म भी हो जाता हैं। सिलिकॉन उच्च तापमान का सामना कर सकता हैं।

कॉपर भी एक अच्छा सेमीकंडक्टर है,इसका इस्तेमाल भी माइक्रोप्रॉसेसर चिप आदि को बनाने में किया जाता हैं।

सीपीयू के प्रकार - सीपीयू को तीन प्रमुख श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है:

  • ट्रांजिस्टर सीपीयू [ Transistor CPUs ]
  • छोटे पैमाने पर एकीकरण सीपीयू [ Small Scale Intergration CPUs ]
  • बड़े पैमाने पर एकीकरण सीपीयू [ Large Scale Intergration CPUs ]


सीपीयू का इतिहास - CPU का विकास कैसे हुया हैं ?


दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर ( 1956 - 1965 ) में डेटा प्रोसेसिंग के लिये Transistor का इस्तेमाल किया जाता था। 1947 में, बेल प्रयोगशालाओं में जॉन बाउर्डन, वाल्टर ब्रेटन और विलियम शॉक्ले द्वारा पहले ट्रांजिस्टर का आविष्कार किया गया था।

तीसरी पीढ़ी के कम्प्युटर ( 1965 - 1975 ) में ट्रांजिस्टर के स्थान पर इंटीग्रेटेड सर्किट का इस्तेमाल किया जाता था। इसे आईसी भी कहा जाता हैं। सन 1958 में, रॉबर्ट नॉयस और जैक किल्बी ने पहला इंटीग्रेटेड सर्किट विकसित किया।

चौथी पीढ़ी के कम्प्युटर ( 1975 - 1988 ) में इंटीग्रेटेड सर्किट की जगह एक माइक्रोप्रॉसेसर का इस्तेमाल किया जाता था। माइक्रोप्रॉसेसर में हजारों इंटीग्रेटेड सर्किट को एक छोटी सी सिलिकॉन चिप पर एकीकृत किया जा सकता हैं। 15 नवंबर 1971 को, इंटेल ने पहला माइक्रोप्रोसेसर, इंटेल 4004 पेश किया। मार्च 1991 में, AMD कंपनी ने भी AM386 माइक्रोप्रोसेसर का निर्माण किया।

पाँचवी पीढ़ी के कम्प्युटर ( 1988 से लेकर अब तक ) में ULSI ( अल्ट्रा लार्ज स्केल इंटिग्रेशन ) तकनीक पर आधारित CPU का इस्तेमाल किया जाता हैं। इन माइक्रोप्रॉसेसर सीपीयू में एक चिप पर ही लाखों इंटीग्रेटेड सर्किट को एकीकृत किया जाता हैं। इससे वर्तमान समय के कम्प्युटर में CPU Processor काफी शक्तिशाली होते हैं और अधिक से अधिक डेटा का प्रोसेसिंग करने में सक्षम होते हैं।

इसके बाद इंटेल और दूसरी कंपनीयों ने समय - समय पर बहुत से नए CPU Processor मार्केट में पेश किये,जिनमें से कुछ प्रमुख सीपीयू की जानकारी निम्न हैं -

  • 22 मार्च 1993 को, Intel ने 3.1 मिलियन ट्रांजिस्टर के साथ 60 MHz प्रोसेसर पेंटियम प्रोसेसर जारी किया।
  • 4 जनवरी 2000 को, इंटेल ने सेलेरॉन 553 मेगाहर्ट्ज बस प्रोसेसर जारी किया।
  • 22 अप्रैल 2006 को, इंटेल ने कोर 2 डुओ प्रोसेसर E6320 जारी किया।
  • नवंबर 2008 में, इंटेल ने पहला कोर आई 7 डेस्कटॉप प्रोसेसर जारी किया।
  • जनवरी 2010 में, इंटेल ने पहला कोर i5 मोबाइल प्रोसेसर (i5-430M और i5-520E) जारी किया।

हम उम्मीद करते हैं कि,सीपीयू क्या होता हैं और यह कैसे काम करता हैं और "CPU Full Form in Hindi" टॉपिक पर यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। इस पोस्ट को सोश्ल मीडिया पर शेयर जरूर करे,जिससे अधिक से अधिक लोग इस जानकारी का लाभ ले सके।
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।