Comments

UPI ID Kya Hoti Hai, यूपीआई आईडी इन हिन्दी

आज हम आपकों इस पोस्ट में UPI ID Kya Hota Hai और इसका इस्तेमाल किस प्रकार से किया जाता है? इस टॉपिक की पूरी जानकारी देने वाले है। आपने अपने आस पास कहीं ना कहीं Upi Payments के बारे मे सुना होगा और आप इसके बारे में जानने के इच्छुक भी होंगे। तो आइये यूपीआई आईडी क्या होती हैं, इसके बारे में पूरी जानकारी विस्तारपूर्वक प्राप्त करते हैं। 

आजकल दुकानदार से लेकर हर एक व्यक्ति जिसका नगद लेनदेन होता है, वह भी यूपीआई पेमेंट का इस्तेमाल करने लगा हैं। आपने देखा होगा कि आजकल दुकानों में बहुत से ग्राहक ऐसे आते है जो नगद लेनदेन की जगह UPI Payments करते हैं। क्योंकि इसका इस्तेमाल करना बहुत आसान होता हैं। यदि आप इसके बारे में नहीं जानते तो इस पोस्ट को पढ़कर आप इसके बारे में जान सकते हैं।

upi-id-kya-hoti-hai-upi-id-kya-hai

इस पोस्ट में बहुत से सवालों जैसे - Upi Id Ka Matlab Kya Hota Hai और Upi Id Kaise Banaye? का जबाव बिल्कुल सरल भाषा में देने की कोशिश की गयी हैं। 

Upi Id Kya Hoti Hai? (यूपीआई आईडी क्या होता है)

यूपीआई की शुरुआत 11 अप्रैल 2016 को हुई। यूपीआई हमारी खुद की एक पर्सनल आईडी होती है, जिससे हम दूसरे व्यक्ति की आईडी पर पैसे भेज सकते है। यूपीआई एक ऐसा तरीका है जिसकी सहायता से हम कहीं से भी किसी भी वक्त पैसों का ट्रांसफर एक बैंक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में कर सकते है, इसके साथ ही हम ऑनलाइन पेमेंट भी कर सकते है जैसे - मोबाइल रीचार्ज, मूवी टिकिट, बिज़ली बिल, किसी भी प्रकार का टैक्सी या अन्य किराया।  

UPI की Full Form इंग्लिश में “Unified Payments Interface” तथा हिन्दी में “एकीकृत भुगतान इंटरफ़ेस” होती हैं। UPI की शुरुआत National Payments Corporation of India (भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम) ने की थी। 

सरल शब्दों में कहा जाये तो, “यूपीआई आईडी एक ऐसी प्रणाली हैं जिसमें आप अपने बैंक अकाउंट को एक मोबाइल एप के माध्यम से बैंकिंग सुविधाओं, ऑनलाइन लेनदेन, फंड ट्रान्सफर, एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रान्सफर करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।"

जब आप यूपीआई आईडी बनाते हैं तो वह आपके बैंक अकाउंट से लिंक होती हैं। जब आप Upi Id के माध्यम से पेमेंट करते हैं या किसी से प्राप्त करते हैं तो पैसे का लेनदेन सीधा आपके बैंक अकाउंट से होता हैं और आपकों बार-बार बैंक अकाउंट किसी दूसरे को बताने की आवश्यकता नहीं रहती हैं। 

अब Upi Id Kya Hota Hai, यह तो आप समझ चुके होंगे तो आइये अब हम आपको इस आर्टिकल में Upi Id Kaise Banaye के बारे में जानकारी देते हैं। 

Upi Id Kaise Banaye (यूपीआई आईडी कैसे बनाते हैं)


यूपीआई आईडी बनाने के लिए निम्न की आवश्यकता पड़ती हैं:-
  • आपका बैंक में खाता होना चाहिए।
  • आपके मोबाइल फोन में बैंक अकाउंट से रजिस्टर/लिंक मोबाइल नंबर वाली सिम इन्सर्ट होनी चाहिए।
  • आपके पास बैंक का ATM Card/Debit Card होना चाहिए। 
  • मोबाइल फोन में Google Play Store होना चाहिए। 
यदि आपके पास उपरोक्त सभी चीजें है तो आप आसानी से यूपीआई आईडी बना सकते हैं। अब आपको सबसे पहले यूपीआई ऐप में रजिस्ट्रेशन करना होगा।
यूपीआई आईडी बनाने के लिए निम्न चरण का अनुसरण करे :-

गूगल प्ले स्टोर से कोई भी यूपीआई एप इंस्टॉल करे जैसे – BHIM Pay, गूगल पे, अमेज़न पे या फोन पे आदि। 

अब मोबाइल ऐप को ओपन करके उसमें अपना नाम, वर्चुअल आईडी (भुगतान पता), पासवर्ड आदि जैसे विवरण दर्ज करके अपना प्रोफ़ाइल बनाए। इस स्टेप में आप जो Password बनाएंगे वह आपका M-PIN होगा और इसका इस्तेमाल आप यूपीआई ऐप को ओपन करने के लिए करेंगे। 

अब उसी यूपीआई ऐप में “Add/Link/Manage Bank Account” वाले ऑप्शन में जाकर अपना बैंक अकाउंट लिंक करे, बैंक अकाउंट लिंक करने के लिए आपकों एटीएम कार्ड की जरूरत पड़ेगी और बैंक अकाउंट के साथ लिंक मोबाइल नंबर पर ओटीपी भी प्राप्त होगी। 

अब इस स्टेप में डेबिट कार्ड/एटीएम कार्ड के पिछले छ: अंक और समाप्ति की दिनांक दर्ज करके आपकों अपना यूपीआई पिन सेट करना हैं। UPI-PIN 6 अंकों का होता है, इस यूपीआई पिन का इस्तेमाल यूपीआई पेमेंट करते समय किया जायेगा। अब हम अपने अकाउंट से किसी भी प्रकार का लेनदेन यूपीआई के माध्यम से कर सकते हैं। 

यह पिन किसी को भी न बताए, हमेशा गोपनीय रखे क्योंकि जब भी आपके मोबाइल ऐप के माध्यम से आप यूपीआई पेमेंट करेंगे तो हर एक पेमेंट करने से पहले आपसे UPI-PIN दर्ज करने को कहा जायेगा।

UPI PIN और M-PIN क्या होता हैं?


यूपीआई मोबाइल ऐप में रजिस्ट्रेशन करते समय आपने जो 4 अंको का पासवर्ड बनाया था उसे M-PIN कहा जाता है और जो 6 अंकों का पिन बनाया था उसे UPI-PIN कहा जाता हैं। इन को गोपनीय रखे किसी के साथ शेयर न करे।

जब आप अपने मोबाइल में यूपीआई ऐप को ओपन करेंगे तो आपसे सबसे पहले M-PIN मांगा जायेगा इसके बिना यूपीआई ऐप ओपन नहीं होगा और जब आप यूपीआई ऐप के माध्यम से किसी प्रकार की पेमेंट करेंगे तो आपसे 6 पिन का UPI-PIN मांगा जायेगा। यूपीआई पिन दर्ज किए बिना किसी प्रकार की भी पेमेंट नहीं की जा सकती हैं। तो हमेशा याद रखे बिना यूपीआई पिन के हम कोई भी ट्रांजेक्शन नहीं कर सकते और बिना M-PIN के आप अपने मोबाइल में यूपीआई ऐप को ओपन नहीं कर सकते हैं। 

UPI ID के लाभ -


  • यूपीआई एक ऐसा प्लैटफ़ार्म है जिसमे पूरे वर्ष ऑनलाइन मनी ट्रांसफर की सुविधा है। जिसमें पैसों का लेंन - देन आसानी से किया जा सकता है।
  • इसकी हेल्प से हम अपना बैंक बैलेन्स भी चेक कर सकते है।   
  • हम किसी भी वक्त कही पर भी किसी भी प्रकार का बिल भुगतान कर सकते है। 
  • कम समय में जल्दी कार्य करने की सुविधा। 

यूपीआई आईडी के नुकसान -


  • यूपीआई के द्वारा केवल वही व्यक्ति भुगतान कर सकता है जिस व्यक्ति को थोड़ा बहुत टेक्निकल ज्ञान है।  
  • कई बार भुगतान करते समय इंटरनेट की स्पीड स्लो हो जाने पर ट्रांजेकशन बीच मे ही रुक जाती है।  
  • अगर आपने गलती से किसी के साथ एमपिन और यूपीआई पिन शेयर की हैं तो वह व्यक्ति आपकी गैरमौजूदगी में यूपीआई पेमेंट कर सकता हैं। 
तो पाठकों इस पोस्ट में हमारे द्वारा UPI ID IN HINDI पर आधारित पूरी जानकारी विस्तारपूर्वक दी गयी हैं। हम आशा करते हैं कि इस पोस्ट को पढ़कर आपकों यूपीआई आईडी क्या होती है, यूपीआई आईडी का मतलब क्या होता है जैसे सभी सवालों का जबाव मिल चुका होगा।

यदि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी हैं तो इसे सोश्ल मीडिया पर शेयर जरूर करे और अमोजीत हिन्दी ब्लॉग के फेसबुक पेज को लाइक जरूर करे।

Share This Post :-


No comments:

Post a Comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।