MBBS का फुल फॉर्म,एमबीबीएस क्या होता हैं ?

यदि आप एक स्टूडेंट है और डॉक्टर बनना चाहते हैं तो यह पोस्ट आपके लिये बहुत फायदेमंद साबित होगी। इस पोस्ट में एमबीबीएस क्या होता हैं,एमबीबीएस कैसे करे और MBBS का Full Form हिन्दी और इंग्लिश में क्या होता हैं ? टॉपिक पर जानकारी दी गयी हैं। यदि आप भी इस टॉपिक पर पूरी जानकारी चाहते हैं तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पढे।


MBBS-kya-hai-mbbs-ka-full-form-hindi


एमबीबीएस का फुल फॉर्म क्या हैं ? Full Form Of MBBS in Hindi And English


एमबीबीएस का हिन्दी में फुल फॉर्म हिन्दी में 'आयुर्विज्ञान तथा शल्य-विज्ञान स्नातक' होता हैं। MBBS का Full Form इंग्लिश में 'Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery' होता हैं। जो विद्यार्थी डॉक्टर बनना चाहते हैं,उनको यह undergraduate course करना होता हैं। इस कोर्स को करने के बाद नाम के आगे 'डॉक्टर' शब्द जुड़ जाता हैं।

बैचलर ऑफ मेडिसिन और बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस), चिकित्सा विज्ञान में एक पेशेवर डिग्री है। एमबीबीएस की डिग्री रखने वाला व्यक्ति प्रमाणित चिकित्सक बन जाता है। एमबीबीएस कोर्स की अवधि पांच साल और छह महीने की होती है।

एमबीबीएस क्या हैं ? MBBS कैसे करे ?


एमबीबीएस मेडिकल साइन्स में एक बैचलर डिग्री होती हैं। एमबीबीएस डिग्रीधारक एक डॉक्टर होता हैं। इस कोर्स के पाठ्यक्रम में चिकित्सा विज्ञान से जुड़ी जानकारी जैसे विभिन्न रोंगों की जाँच करना,रोगों के लक्षण देखकर उससे संबंधित दवाई देना,बाल चिकित्सा ,फोरेंसिक मेडिसिन और विष विज्ञान,नेत्र विज्ञान,कीटाणु-विज्ञान,हड्डी रोग,विकृति विज्ञान और सर्जरी पर अध्ययन शामिल हैं।

इस कोर्स की अवधि पांच साल और छह महीने की होती है। इस कोर्स को करने के लिये उम्मीदवार को एक Medical College में रहना होता हैं। मेडिकल कॉलेज ऐसे कॉलेज होते हैं जो किसी अस्पतालों के साथ जुड़े होते हैं। इस कोर्स को करने वाले उम्मीदवारों को स्वास्थ्य केंद्रों,अस्पतालों में इंटर्नशिप भी पूरी करनी होती है।

यह एक ऐसा कोर्स हैं जो चयनित उम्मीदवार में एक डॉक्टर होने के सभी गुणों को समाहित करने का प्रयास करता हैं। भारत देश में हर साल लाखों विद्यार्थी इस कोर्स को करने के लिये प्रवेश परीक्षा देते हैं।


एक स्टूडेंट जो डॉक्टर बनना चाहता हैं उसके मन में यह सवाल जरूर आता हैं कि,mbbs कैसे करे। एमबीबीएस कोर्स करने के लिये कुछ आवश्यक योग्यताएं निर्धारित की गयी हैं।

यदि आपने कक्षा 12वीं में Science Subject जैसे Chemistry,Physics और Biology विषय की पढ़ाई की हैं तो आप एमबीबीएस कोर्स कर सकते हैं। चूंकि यह एक Medical Science से जुड़ा Degree Course हैं,इस कारण जो भी विद्यार्थी इसमें प्रवेश पाना चाहता हैं,उसके पास कक्षा 12वीं में Medical Science से जुड़े विषय जीवविज्ञान,रसायन विज्ञान और भौतिक विज्ञान के साथ - साथ English सब्जेक्ट भी होना अनिवार्य हैं।

कक्षा 12वीं के बाद आप इस कोर्स के लिये आवेदन कर सकते हैं।

एमबीबीएस डिग्री कोर्स केवल Medical Colleges ही करवाते हैं। हमारे देश में कुछ सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेज हैं। प्रत्येक मेडिकल कॉलेज में MBBS Course Seats की संख्या निश्चित होती हैं। हर कॉलेज एक निश्चित संख्या में ही इस कोर्स के लिये उम्मीदवारों को प्रवेश देते हैं।

MBBS Degree Course करने के लिये प्रवेश कैसे मिलता हैं ?  Eligibility for MBBS Degree


चूँकि मेडिकल कॉलेजो में इस कोर्स के लिये निश्चित संख्या में सीट होती हैं,लेकिन उम्मीदवार अधिक संख्या में होते हैं। हर एक विद्यार्थी को इस कोर्स में प्रवेश नहीं मिलता हैं। इसके लिये एक प्रवेश परीक्षा ( Entrance Exam ) देनी होती हैं। प्रवेश परीक्षा में रैंक के हिसाब से ही किसी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश मिलता हैं।

पहले MBBS Entrance Exam के रूप में AIPMT की परीक्षा होती थी। लेकिन अब NEET ( National Eligibility-cum-Entrance Test ) परीक्षा का आयोजन सीबीएसई द्वारा करवाया जाता हैं।

हर साल देश में सभी Medical Colleges की 100 % MBBS Course Seats में प्रवेश देने के लिये CBSE द्वारा NEET परीक्षा का आयोजन करवाया जाता हैं। इस परीक्षा में बैठने के लिये उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 17 वर्ष होनी चाहिए और कक्षा 12वीं में Biology,Chemistry,Physics विषय होने चाहिए। English विषय भी होना अनिवार्य हैं।

भारत में हर साल लाखों की संख्या में विद्यार्थी इस प्रवेश परीक्षा में भाग लेते हैं। हर एक उम्मीदवार को प्राप्त अंको के हिसाब से रैंक मिलती हैं। जिस उम्मीदवार की जितनी बेहतर Rank होती हैं उसे अपनी पसंद का मेडिकल कॉलेज मिल जाता हैं। इस प्रकार एक निश्चित संख्या में ही इस कोर्स के लिये उम्मीदवारों को चुना जाता हैं।

MBBS डिग्री कोर्स की फीस कितनी होती हैं ?


एमबीबीएस डिग्री कोर्स के लिए फीस कॉलेज पर निर्भर करती हैं। एक सरकारी कॉलेज में प्रतिवर्ष फीस 10000 रुपये से 50000 रुपये के बीच होती है, जबकि एक निजी मेडिकल कॉलेज की प्रतिवर्ष फीस 2,00,000 रुपये से लेकर 22,00,000 रुपये तक होती हैं।

MBBS करने के क्या फायदे हैं ? एमबीबीएस डिग्रीधारक की सैलरी कितनी होती हैं ?


एमबीबीएस करने के बाद आप एक डॉक्टर बन जाते हैं। हमारे समाज में डॉक्टर की बहुत इज्जत होती हैं। एमबीबीएस करने के बाद आप किसी भी निजी अस्पताल में डॉक्टर के पद पर जॉइन कर सकते हैं। इसके अलावा आप जरनल फिजिशियन, हेल्थ केयर रिसर्च एण्ड कांसलटेंट, डायटीशियन और मेडिकल ऑफिसर जैसी नौकरी आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

इसके अलावा आप अपने शहर में अपना खुद का निजी क्लीनिक भी खोल सकते हैं। एमबीबीएस डिग्री मेडिकल के क्षेत्र में एक उज्ज्वल भविष्य के लिये मार्ग प्रदान करती हैं।

एक एमबीबीएस डिग्रीधारक जिस जगह,जिस पद पर कार्य करता है उस हिसाब से उसकी सैलरी होती हैं। वैसे देखा जाये तो इस कोर्स को करने के बाद हजारों रुपए से लेकर लाखों रूपये तक सैलरी के रूप में मिलते हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि,आज की इस पोस्ट को पढ़कर आपको "एमबीबीएस की फुल फॉर्म हिन्दी और इंग्लिश में क्या होती हैं और एमबीबीएस क्या होता हैं" टॉपिक पर पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। इस पोस्ट को शेयर जरूर करे।
--
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।