Dynamic Microphone की पूरी जानकारी

--

Microphone एक ऐसा डिवाइस है जो ध्वनि तरंगों ( Sound Waves ) को विद्युत तरंगों ( Electrical Waves) में परिवर्तित कर देता है जिसे कम्प्युटर या दूसरे डिजिटल डिवाइस समझ सकते हैं। यदि आप किसी भी प्रकार की ध्वनि / आवाज / साउण्ड को कम्प्युटर या मोबाइल में रिकॉर्ड करना चाहते हैं तो इसके लिये माइक्रोफोन की जरूरत पड़ती है। 

अधिकांश कम्प्युटर, लैपटॉप या मोबाइल डिवाइस में इनबिल्ट माइक्रोफोन होता हैं जो साउण्ड रिकॉर्ड करने का काम करता हैं, लेकिन यदि आप इनबिल्ट माइक्रोफोन की रिकॉर्डिंग क्वालिटी से खुश नहीं हैं तो आपको एक External Microphone खरीदना चाहिए। आप एक बढ़िया क्वालिटी के External Microphone का इस्तेमाल करके अच्छी क्वालिटी की ऑडियो रिकॉर्डिंग कर सकते हैं। 

Professional Audio Recording के लिए बढ़िया क्वालिटी के एक्सटर्नल माइक्रोफोन का इस्तेमाल किया जाता हैं। आप किस काम के लिए माइक्रोफोन चाहते हैं इसके आधार पर बाजार में बहुत सी कैटेगरी के माइक्रोफोन उपलब्ध हैं। इस कारण पहले आप यह तय करे कि आप किस काम के लिए Microphone खरीद रहे है, इसके बाद ही Microphone Buy करे। 

आमतौर पर माइक्रोफोन दो प्रकार के होते हैं, Dynamic Microphone और Condenser Microphone. Condenser Microphone क्या होते हैं और किस काम आते हैं, इस प्रकार के माइक्रोफोन के क्या फायदे और नुकसान हैं ? इसकी विस्तारपूर्वक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करे :-

आज की इस पोस्ट में हम Dynamic Microphone के बारे में पूरी जानकारी देंगे और इससे जुड़े सभी सवालों का जबाव देने की कोशिश करेंगे जैसे :-

  • Dynamic Microphone क्या है ?
  • डायनामिक माइक्रोफोन का इस्तेमाल कहाँ किया जाता है ?
  • डायनामिक माइक्रोफोन के फायदे और नुकसान 
  • Dynamic Microphone Price कितना होता है ?
dynamic-micrphone-kya-hota-hai-meaning-in-hindidynamic-micrphone-kya-hota-hai-meaning-in-hindi

डायनामिक माइक्रोफोन क्या है ? ( What Is Dynamic Microphone ) Dynamic Microphone Meaning In Hindi 

Microphone एक Input Device के रूप में कार्य करता हैं। इसका काम आस-पास की साउंड/ध्वनि को रिकॉर्ड करना होता हैं। माइक्रोफोन साउंड/ध्वनि तरंगों को विद्युत तरंगों में परिवर्तित करता है और उसे कम्प्युटर या रिकॉर्डिंग डिवाइस में भेजते हैं। 

कम्प्युटर या रिकॉर्डिंग डिवाइस माइक्रोफोन से आने वाली विद्युत तरंगों को प्रोसैस करके उसे डिजिटल फॉरमैट में बदल देते हैं। इस प्रकार हम ने माइक्रोफोन के द्वारा जो ध्वनि रिकॉर्ड की थी वो डिजिटल फॉरमैट में कम्प्युटर, लैपटॉप या रिकॉर्डिंग डिवाइस में रिकॉर्ड हो जाती हैं। 

सभी प्रकार के Microphone के अंदर एक Diaphragm होता हैं। इस डायफ्राम के द्वारा ही माइक्रोफोन आस-पास की ध्वनि तरंगो/साउंड को एकत्रित करता हैं। ध्वनि की तरंगे इस डायफ्राम से टकराती हैं। यह डायफ्राम Plastic या Polyester Film से बना होता है जो ध्वनि के प्रति संवेदी होता हैं।

Dynamic Microphone का Diaphragm एक Metal Coil ( धातु की तार का गुच्छा ) के साथ जुड़ा होता हैं, यह Metal Coil दो चुम्बकों के बीच निलंबित रहता हैं। जब कोई ध्वनि तरंग डायनामिक माइक्रोफोन के डायफ्राम से टकराती है तो डायफ्राम में कुछ कम्पन पैदा होता हैं, इस कम्पन की वजह से Metal Coil भी ऊपर या नीचे होती हैं, जिससे Ac Current बनता हैं। इस Ac Current की Wave ( तरंग ) ठीक वैसी ही होती हैं जैसी उस Sound की Wave थी जो माइक्रोफोन के डायफ्राम से टकराई थी। 

dynamic-microphone-information-in-hindi-language

इस प्रकार डायनामिक माइक्रोफोन विद्युत चुंबकत्व ( Electromagnetism ) के द्वारा ध्वनि को विद्युत संकेत में परिवर्तित करते हैं। 

Note :- आवाज / साउण्ड / ध्वनि जितनी ज्यादा होगी उसकी तरंग उतनी ही ज्यादा Amplitude की होगी। Amplitude को Decibels में मापा जाता है।  यदि हम ज्यादा ऊंचा बोलेंगे या अधिक ध्वनि पैदा करेंगे तो यह High Amplitude Sound होगा और यदि हम धीरे बोलेंगे या कम ध्वनि पैदा करेंगे तो यह Low Amplitude Sound होगा।

Dynamic Microphone High Amplitude Sounds के प्रति ज्यादा संवेदी होते हैं। इस कारण इस प्रकार के माइक्रोफोन का इस्तेमाल सभाओं, भाषणों या तेज आवाज, लाइव इंस्ट्रूमेंट जैसे गिटार, ड्रम्स, ढोल, तबला, वोकल आदि को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता हैं। 

इस प्रकार के माइक्रोफोन का इस्तेमाल खुली जगह पर भी आसानी से किया जा सकता है क्योंकि यह High Amplitude Sounds के प्रति ज्यादा संवेदी होता है, इस कारण जो व्यक्ति इस माइक्रोफोन के जितना ज्यादा सामने से या नजदीक से बोलेगा उसकी आवाज उतनी ही ज्यादा ऊंची रिकॉर्ड होगी और आस - पास की ध्वनि या शोर कम मात्रा में रिकॉर्ड होगा। 

लेकिन दूसरी तरफ Condenser Microphone High Amplitude और Low Amplitude Sounds दोनों के प्रति ही बहुत ही संवेदी होते हैं। यह माइक्रोफोन बहुत कम आवाज को भी रिकॉर्ड कर लेते हैं। इस कारण आमतौर पर इनका इस्तेमाल Professional Audio Recording Studios में ही किया जाता हैं जहाँ पर अच्छी साउंड प्रूफिंग हो और बिल्कुल भी शोर न हो। 

Dynamic Microphone का इस्तेमाल किसे करना चाहिए ? 

आमतौर पर Dynamic Microphone का इस्तेमाल On Stage Performance, सभाओं, भाषणों या तेज आवाज, लाइव इंस्ट्रूमेंट जैसे गिटार, ड्रम्स, ढोल, तबला, ऊँचे वोकल आदि को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता हैं।

इसके अलावा यदि आप खुद की आवाज रिकॉर्ड करना चाहते हैं या किसी गाने की रिकॉर्डिंग करना चाहते हैं लेकिन आपके कमरे में अच्छी साउंड प्रूफिंग नहीं हैं और आस - पास शोर भी होता है तो आप डायनामिक माइक्रोफोन का इस्तेमाल करके अच्छी क्वालिटी की Vocal Recording कर सकते हैं। लेकिन आप धीमी आवाज में किसी सॉफ्ट गाने को रिकॉर्ड करना चाहते है तो यह माइक्रोफोन आपके लिए उपयोगी साबित नहीं होगा। 

Dynamic Microphone में Polar Pattern क्या होता है ? 

Microphone Diaphragm किस दिशा से साउंड/ध्वनि को रिकॉर्ड करेगा इसके लिए कुछ Polar Pattern निर्धारित किए गए होते हैं। जैसे 

  1. Omnidirectional Polar Pattern
  2. Unidirectional Polar Pattern

Polar Pattern क्या होता है और पोलर पैटर्न का माइक्रोफोन की रिकॉर्डिंग क्षमता पर क्या प्रभाव पड़ता हैं, इसकी विस्तारपूर्वक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप यह ब्लॉग पोस्ट्स जरूर पढे। 

Dynamic Microphone को Computer के साथ Connect कैसे करते है ?


डायनामिक माइक्रोफोन को कम्प्युटर या लैपटॉप के साथ कनैक्ट करने के लिए आपको एक Audio Interface की जरूरत पड़ेगी। Audio Interface के माध्यम से हम अपने Condenser Microphone, dynamic Microphone और Electric Instrument आदि को अपने कम्प्युटर में किसी Recording Software या Digital Audio Interface के साथ कनैक्ट करके Sound Recording कर सकते हैं। 

ऑडियो इंटरफ़ेस के बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए आप यह ब्लॉग पोस्ट्स पढ़ सकते हैं :-

Dynamic Microphone के फायदे और नुकसान 

डायनामिक माइक्रोफोन के बहुत से फायदे हैं जैसे कि :-

  1. यह सस्ते होते हैं। इनकी कीमत अधिक नहीं होती हैं। 
  2. यह ज्यादा टिकाऊ होते हैं। 
  3. इन्हे चलाने के लिए किसी बाहरी पावर सोर्स जैसे Phantom Power Supply की जरूरत नहीं पड़ती हैं। 
  4. बिना साउंड प्रूफिंग वाले कमरे में भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता हैं।

दूसरी तरह डायनामिक माइक्रोफोन के कुछ नुकसान भी हैं जैसे की :- 

  1. यह कम ऊँची ध्वनि के प्रति ज्यादा संवेदी नहीं होते हैं। 
  2. डायनामिक माइक्रोफोन केवल उस साउंड को रिकॉर्ड करेगा जो माइक्रोफोन के डायफ्राम में हलचल पैदा कर सके। 
Audio Recording, Microphone, Music Production से जुड़ी नॉलेज और टिप्स हिन्दी में पढ़ने के लिये इस ब्लॉग को दुबारा फिर से विजिट करे। यदि 'Dynamic Microphone' टॉपिक पर आधारित यह ब्लॉग पोस्ट आपको पसंद आयी हैं तो इसे सोश्ल मीडिया पर शेयर जरूर करे। 

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।