कोरोना वायरस से जुड़ी जानकारी - 31 मई तक बढ़ा लॉकडाउन

पूरे देश में लॉकडाउन बढ़ा दिया गया हैं। अब 31 मई तक लॉकडाउन प्रभावी रहेगा। सरकार द्वारा 31मई तक बढ़ाये गये Lockdown का पालन जरूर करे। कोरोना जैसी महामारी को देश में फैलने से रोकने के लिये और खुद इससे बचने के लिये घर से बाहर न निकले। सरकार द्वारा दिये जा रहे निर्देशों का पालन जरूर करे।

आईएएस का फुल फॉर्म क्या हैं - Full Form Of IAS

आजकल प्रतियोगी परीक्षाओं में फुल फॉर्म से संबंधित बहुत से प्रश्न पूछे जाते हैं,इस प्रकार के सवालों में प्राय एक शब्द पूछकर उसकी Full Form पूछी जाती हैं। इस कारण आज की इस पोस्ट में हम अक्सर पूछा जाने वाला सवाल "आईएएस का फुल फॉर्म क्या होता हैं,IAS Full Form in Hindi" के बारे में बताने वाले हैं।


अधिकांश लोग केवल यह जानते हैं कि,आईएएस एक अधिकारी होता हैं। लेकिन यह क्या काम करते हैं,इनके पास कौनसी शक्तियां होती हैं,आदि की जानकारी लोगों को नहीं होती हैं। तो आइये आज की इस पोस्ट में आईएएस की फुल फॉर्म से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त करते हैं।

ias-ka-full-form-kya-hai


आईएएस का फुल फॉर्म क्या होता हैं ? आईएएस का पूरा नाम हिन्दी में क्या होता हैं ?


IAS का Full Form इंग्लिश में Indian Administrative Service होता हैं। आईएएस की हिन्दी में फुल फॉर्म "भारतीय प्रशासनिक सेवा" होता हैं।

आईएएस एक सिविल परीक्षा होती हैं,जिसको पास करके कोई व्यक्ति भारत में एक प्रशासनिक अधिकारी के रूप में जिला स्तर पर सरकार का प्रतिनिधित्व करते हैं। भारत में मुख्य रूप से तीन प्रकार की सिविल सेवा परीक्षा होती हैं।

  • IAS - Indian Administrative Service ( भारतीय प्रशासनिक सेवा )
  • IPS - Indian Police Service ( भारतीय पुलिस सेवा )
  • IFS - Indian Forest Service ( भारतीय वन सेवा )

इन तीनों सेवाओं के सदस्य भारत सरकार के साथ-साथ अलग-अलग राज्यों में भी काम करते हैं।

आईएएस अधिकारी क्या होते हैं ? यह कैसे काम करते हैं ?


आईएएस भारत की एक सबसे कठिन सिविल सेवा परीक्षा होती हैं जो की यूपीएससी ( संघ लोक सेवा आयोग ) द्वारा आयोजित करवाई जाती हैं। इस परीक्षा के द्वारा ऐसे योग्य और प्रतिभाशाली उम्मीदवारों का चयन किया जाता हैं,जिसे किसी राज्य के जिले की प्रशासनिक सेवा की कमान सौंपी जा सके।

इस परीक्षा को पास करने पर हर एक उम्मीदवार को परीक्षा में प्राप्त रैंक के आधार पर एक प्रशासनिक सेवा के पद पर नियुक्त किया जाता हैं। जैसे जिला कलेक्टर आदि।

आईएएस अधिकारी सरकारी विभागों या मंत्रालयों का नेतृत्व कर सकते हैं। इनको केंद्र सरकार, राज्य सरकारों या सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा नियोजित किया जा सकता है और सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों के प्रमुख,आयुक्त,मुख्य सचिव जैसे कई कार्य कार्य सौंपे जा सकते हैं।


IAS अधिकारी बनने के लिये Exam कैसे होता हैं ? 


हर साल लोक सेवा आयोग द्वारा सिविल सेवा परीक्षा (CSE) का आयोजन करवाया जाता हैं। जिसमें आईएएस,आईपीएस,आईएफ़एस जैसे लगभग बीस प्रकार के प्रशासनिक सेवा के पद के लिये परीक्षा आयोजित करवाई जाती हैं। इस परीक्षा के लिये लगभग हर साल लगभग 8 लाख से अधिक उम्मीदवार फॉर्म भरते हैं।

भारत की सबसे कठिन परीक्षा होने के कारण लगभग आठ लाख उम्मीवारों में से केवल लगभग एक हजार उम्मीवारों का ही चयन होता हैं। इस परीक्षा में तीन स्तर होते हैं।

सबसे पहले स्तर की परीक्षा में Objective Question पुछे जाते हैं,इस परीक्षा को IAS Prelims Exam कहा जाता हैं। इस परीक्षा को पास करने के बाद ही उम्मीदवार अगले स्तर की परीक्षा में बैठ सकता हैं। द्वितीय स्तर को परीक्षा में कुछ विषय के अलग - अलग Subjective Papers लिखित पेपर होते हैं। इन पेपर की संख्या छ: तक होती हैं। इस परीक्षा को IAS Mains Exam ( आईएएस मुख्य परीक्षा ) कहते हैं।

आईएएस मुख्य परीक्षा के अंको के आधार पर ही एक मेरिट लिस्ट बनाई जाती हैं जिससे उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया जाता हैं। इस परीक्षा के तृतीय स्तर में  IAS Interview होता हैं। मुख्य परीक्षा की मेरिट लिस्ट के आधार पर शॉर्टलिस्ट किये गये उम्मीवारों को एक - एक करके इंटरव्यू के लिये बुलाया जाता हैं।

इस प्रकार अंत में आईएएस मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर एक संशोधित मेरिट लिस्ट जारी की जाती हैं। जिसमें सभी उम्मीदवारों को उनके द्वारा प्राप्त किये गये अंको के आधार पर रैंक मिलती हैं।

अधिक रैंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवार को उच्च प्रशासनिक सेवा के पद जैसे जिला कलेक्टर आदि मिलते हैं जबकि कम रैंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवार को निम्न प्रशासनिक सेवा के पद पर नियुक्त किया जाता हैं।


Indian Administrative Service ( भारतीय प्रशासनिक सेवा )अधिकारी बनने के लिये उम्मीदवार की आवश्यक योग्यता क्या होती हैं ?


हर कोई व्यक्ति सिविल सेवा परीक्षा के लिये आवेदन नहीं कर सकता हैं। इस परीक्षा में बैठने के लिये कुछ मापदण्ड लागू किये गये हैं। जैसे आईएएस अधिकारी बनने के लिये न्यूनतम आयु 21 वर्ष से अधिक होनी चाहिए। शैक्षणिक योग्यता की बात की जाये तों उम्मीदवार कम से कम स्नातक ( Graduate ) तक पढ़ा लिखा होना चाहिये।

इसके अलावा एक उम्मीदवार अधिक से अधिक 6 बार ही इस परीक्षा के लिये आवेदन कर सकता हैं। उम्मीदवारों का चयन प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और एक साक्षात्कार / व्यक्तित्व परीक्षण के माध्यम से किया जाता हैं।

आईएएस पद के लिये आयोजित होनी वाली सिविल सेवा परीक्षा का नोटिफ़िकेशन,पाठ्यक्रम,परीक्षा तिथि आदि की पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिये आप लोक सेवा आयोग की आधिकारिक वेब साइट पर जाये।


आईएएस सेवा में चयनित होने के लिये आपको बहुत मेहनत करनी होगी। क्योंकि भारतीय प्रशासनिक सेवा का पद सबसे योग्य उम्मीदवार को ही सौंपा जाता हैं। यह सबसे अधिक प्रतिष्ठित पद होता हैं। हम उम्मीद करते हैं की आज की इस पोस्ट से आपको "आईएएस की फुल फॉर्म क्या होती है ? और आईएएस अधिकारी कैसे बनते हैं " टॉपिक पर पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। यदि यह पोस्ट आपको पसंद आती है तो इसे सोश्ल मीडिया पर शेयर जरूर करे।
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a Comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।