प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर क्या है? [ Difference Between Direct and Indirect Tax ]

किसी भी देश के विकास के लिये उस देश के नागरिकों का सहयोग बहुत आवश्यक है। हर एक नागरिक देश के विकास में भागीदारी निभाता है,क्योंकि वह टैक्स भरता है। सरकार द्वारा आमतौर पर Direct Tax ( प्रत्यक्ष कर ) और Indirect Tax ( अप्रत्यक्ष कर ) वसूला जाता है। देश का हर एक नागरिक Indirect Tax ( अप्रत्यक्ष कर ) देता है लेकिन  Direct Tax ( प्रत्यक्ष कर ) देने वाले नागरिकों की संख्या बहुत कम है। 

इस कारण इस पोस्ट में मैंने "प्रत्यक्ष कर और अप्रत्यक्ष कर क्या है? आखिर Direct और Indirect Tax में क्या Major Difference होते है ? टॉपिक पर पूरी जानकारी दी है। इस पोस्ट में मैं आपको पूरी जानकारी दूंगा कि कैसे हम प्रत्यक्ष कर और अप्रत्यक्ष कर चुकाते है। 

प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर क्या है? [ Difference Between Direct and Indirect Tax ]

प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर क्या है,प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर में मुख्य अंतर क्या है? [ What is direct and indirect tax, what is the main difference between direct and indirect tax ? ] 

भारत सरकार अपने नागरिकों पर दो प्रकार के कर लगाती है - प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर। 

Definition and example of Direct Tax : इस प्रकार के कर को हिन्दी में प्रत्यक्ष कर कहते है। ये कर सीधे सरकार को चुकाने पड़ते हैं और इन्हें किसी और को हस्तांतरित नहीं किया जा सकता है। जैसे आय, धन, कॉर्पोरेट कर। 

इस प्रकार के टैक्स व्यक्ति/कंपनी विशेष पर लगाये जाते है। जिस व्यक्ति या कंपनी पर यह टैक्स लगाया जाता है उस व्यक्ति या कंपनी को यह टैक्स खुद चुकाना होता है। जैसे यदि किसी व्यक्ति की आय प्रति वर्ष दो लाख पचास हजार रुपए से अधिक है तो उस पर टैक्स दरों के हिसाब से इनकम टैक्स लगाया जायेगा जिसे वह व्यक्ति खुद भरेगा। इसी प्रकार कॉर्पोरेट कर आदि हर एक कंपनी को खुद चुकाना पड़ता है। 

Definition and example of Indirect Tax : इस प्रकार के कर को हिन्दी में अप्रत्यक्ष कर कहा जाता है। ये कर सभी वस्तुओं और सेवाओं पर लगाए जाते हैं। जैसे : सीमा शुल्क, केंद्रीय उत्पाद शुल्क, सेवा कर और मूल्य वर्धित कर अप्रत्यक्ष कर के उदाहरण हैं। अप्रत्यक्ष कर के मामले में, कर का बोझ करदाता द्वारा किसी अन्य व्यक्ति पर स्थानांतरित किया जा सकता है। 

जैसे : एक मोबाइल निर्माता कंपनी को हर एक बेचे जाने वाले मोबाइल पर 18% GST ( वस्तु और सेवा कर ) चुकाना पड़ता है। इस स्थिति से निपटने के लिये मोबाइल निर्माता कंपनी अपने मोबाइल का मूल्य अधिक कर देती है और उसके मूल्य में जीएसटी कर को भी समाहित कर देती है। जब कोई ग्राहक उस मोबाइल को खरीदता है तो कंपनी उस मोबाइल के मूल्य में से 18% जीएसटी कर सरकार को चुकाती है। 

सरकार द्वारा कर तो मोबाइल निर्माता कंपनी के द्वारा हर एक बेचे जाने वाले मोबाइल पर लगाया गया था जिसे कंपनी ने चुकाना था,लेकिन कंपनी ने अपने मोबाइल की कीमत में वृद्धि करके वह टैक्स ग्राहक पर स्थानांतरित कर दिया। अब यदि कोई ग्राहक उस मोबाइल को खरीदेगा तो वह अप्रत्यक्ष रूप से कर चुका रहा है। 

Direct और Indirect Tax में मुख्य अंतर यही है कि Direct Tax जिस व्यक्ति या कंपनी पर लगाया गया है,उस व्यक्ति या कंपनी को वह कर खुद चुकाना होगा उसे वह किसी दूसरे व्यक्ति या कंपनी पर स्थानांतरित नहीं कर सकती है जबकि Indirect Tax में जिस कंपनी ने कर चुकाना है वो कर का बोझ किसी दूसरे व्यक्ति पर स्थानांतरित कर सकती है। 

इस कारण यदि हमारी वार्षिक आय कम है जिस पर कोई इनकम टैक्स नहीं लगता है तो इसका मतलब है कि हम Direct Tax नहीं भरते है लेकिन हम बहुत सी ऐसी वस्तुओं और सेवाओं का उपभोग करते है जिन पर हमें Indirect Tax Pay करना पड़ता है। 

यदि हमारा बिजनेस छोटा है या वार्षिक आय कम है तो हमें किसी भी प्रकार का Direct Tax नहीं चुकाना पड़ता है,इसका मतलब है कि प्रत्यक्ष कर में Tax evasion ( कर - मुक्ति ) संभव है। लेकिन Indirect Tax में Tax evasion ( कर-मुक्ति ) संभव नहीं है,क्योंकि यदि हम किसी ऐसी वस्तु या सेवा का इस्तेमाल करेंगे जिस पर सरकार द्वारा टैक्स लगाया गया है तो वह हमारे चुकाना ही होगा। 

आमतौर पर Direct Tax व्यक्तियों, HUF, फर्मों और कंपनियों को चुकाना पड़ता है जबकि Indirect Tax वस्तुओं और सेवाओं का इस्तेमाल करने वाले अंतिम उपभोगता को चुकाना पड़ता है। 

प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर में कौन-कौन से कर सम्मिलित होते है ? [ Which taxes are included in direct and indirect tax? ] 

Income, Wealth, Corporate Tax जैसे कर Direct Tax के उदाहरण है। जबकि Goods and Services Tax जैसे कर Indirect Tax के उदाहरण है। 

"Direct और Indirect Tax क्या है और इनमें क्या अंतर है ?" टॉपिक से जुड़े किसी भी तरह के सवाल पूछने के लिये आप कमेंट कर सकते है। इस पोस्ट को सोश्ल मीडिया पर शेयर जरूर करे जिससे अधिक से अधिक लोग इस जानकारी को पढ़ सके। 

--
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।