SSLC की Full Form क्या होती है ? एसएसएलसी क्या है ?

यदि भारत के दक्षिण राज्यों जैसे केरला,कर्नाटक,महाराष्ट्र और तमिलनाडू की बात की जाये तो वहाँ के विद्यार्थियों के लिए SSLC का बहुत महत्व होता है। लेकिन एसएसएलसी क्या होता है ? SSLC की Full Form क्या होती है ? इसकी जानकारी बहुत कम लोगो को पता है। 

यदि आप SSLC की पूरी जानकारी चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पढे। इस पोस्ट में मैं आपको "SSLC क्या है ? एसएसएलसी की फुल फॉर्म क्या होती है ?" टॉपिक के बारे में पूरी जानकारी दे रहा हूँ। 

SSLC-kya-hai-SSLC-ki-full-form-kya-hoti-hai

SSLC की Full Form क्या होती है ? Full Form Of SSLC in Hindi

SSLC की Full Form है,Secondary School Leaving Certificate.

Secondary School Leaving Certificate को हिन्दी में 'माध्यमिक विद्यालय छोड़ने का प्रमाण पत्र' कहते है। 

भारत के कई राज्यों, खासकर केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु में स्टूडेंट्स को माध्यमिक स्तर की शिक्षा पूर्ण करने पर एसएसएलसी दिया जाता है। 

एसएसएलसी क्या होता है ? What is SSLC in hindi 

भारत के दक्षिण राज्यों जैसे केरला,कर्नाटक,महाराष्ट्र और तमिलनाडू में जब भी Students Secondary Level ( कक्षा 10वीं ) तक की शिक्षा प्राप्त कर लेते है तो तब उनको Secondary School Leaving Certificate दिया जाता है जिसे आमतौर पर SSLC कहा जाता है। इसे हिन्दी में 'माध्यमिक विद्यालय छोड़ने का प्रमाण पत्र' कहते है। 

इन राज्यों में कक्षा 10वीं के विद्यार्थियों का SSLC Exam होता है,जो स्टूडेंट्स SSLC परीक्षा में पास हो जाते है उनको SSLC सर्टिफिकेट दिया जाता है। 

इन राज्यों में यदि किसी Student के पास SSLC है तो उससे इस बात का पता चल जाता है कि इस विद्यार्थी ने कक्षा 10 तक की शिक्षा पूर्ण की है। यह प्रमाण पत्र प्राप्त करने पर, छात्र को बुनियादी शिक्षा पूरी करने वाला समझा जाता है। 

स्टूडेंट Secondary Level तक की शिक्षा प्राप्त करने के बाद उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए किसी शिक्षण संस्थान में प्रवेश लेना चाहता हैं तो उसे एसएसएलसी की जरूरत पड़ती है। इस कारण Students के लिए SSLC बहुत Important Document होता है। 

SSLC क्यों जरूरी होता है ? एसएसएलसी ( Secondary School Leaving Certificate ) का क्या महत्व होता है ? 

भारत के जिन राज्यों में स्टूडेंट्स को कक्षा 10वीं तक की शिक्षा पूरी करने पर एसएसएलसी प्रमाण पत्र मिलता हैं उन राज्यों में खासकर SSLC Most Important Documents में से एक होता है। 

स्टूडेंट ने माध्यमिक स्तर तक की शिक्षा प्राप्त की है या नहीं इसकी पुष्टि करने के लिये

जन्म की तारीख के लिए सबूत के तौर पर भी इस प्रमाण पत्र का इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि इसमें स्टूडेंट की जन्म दिनांक अंकित होती है। 

उच्च शिक्षा पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने के लिये एसएसएलसी प्रमाण पत्र की जरूरत पड़ती है। 

SSC Certificate और SSLC Certificate में क्या कोई अंतर होता है ?

SSC Certificate जिसे Secondary School Certificate कहा जाता हैं उन विद्यार्थियों को दिया जाता है जो कक्षा 10वीं तक की शिक्षा ग्रहण कर चुके है। लेकिन कुछ राज्यों में एसएससी की जगह SSLC सर्टिफिकेट दिया जाता है। बुनियादी तौर पर इनमें किसी भी प्रकार का कोई अंतर नहीं है यह दोनों "माध्यमिक स्कूल प्रमाणपत्र" की श्रेणी में ही आते है। 

मुझे आशा है कि यह पोस्ट आपके लिये उपयोगी साबित हुई होगी। इस पोस्ट को सोश्ल मीडिया पर शेयर जरूर करे जिससे SSLC के बारे में अधिक से अधिक लोगो को जानकारी मिल सके। 

--
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।