सेंसेक्स ( SENSEX ) क्या है ? हिंदी में समझे

आज की इस पोस्ट में हम आपको SENSEX क्या होता है और सेंसेक्स का निर्धारण कैसे होता है इसकी पूरी जानकारी देंगे.वैसे तो आपने सेंसेक्स के बारे में बहुत सुना होगा और पढ़ा होगा.लेकिन वास्तव में सेंसेक्स का मतलब क्या होता है इसका मतलब जानने के लिए आप हमारी यह पोस्ट पूरी पढ़े.

यदि आपको सेंसेक्स और निफ्टी में अंतर नहीं मालूम तो सबसे पहले आप हमारी यह पोस्ट पढ़े जिसमे हमने बताया है की निफ्टी क्या होता है.



sensex-kya-hai-hindi-me-jankari


सेंसेक्स क्या है ? What is Sensex in Hindi ? 


भारत में शेयर मार्केट के लिए 2 प्रकार के स्टॉक एक्सचेंज मार्केट है.इसमें एक BSE है जिसका पूरा नाम Bombay Stock Exchange है.यानि की बहुत सी कंपनियों के शेयर ख़रीदने व बेचने का कार्य BSE में होता है.

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में 5000 से भी अधिक कंपनियाँ लिस्टेड है.जिनके शेयर वहाँ पर Sell और Buy किये जाते है.अब जो SENSEX ( सेंसेक्स ) है वो BSE का एक इंडेक्स ( सूचकांक ) है.सेंसेक्स के द्वारा शेयर मार्केट में मंदी और बढ़ोतरी की जानकारी दी जाती है.


चूंकि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में 5000 से अधिक कंपनियाँ रजिस्टर है.इस कारण हर एक कंपनी के शेयर का मूल्य निर्धारित करना बहुत कठिन काम होता है.इस कारण बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज मार्केट ने अपना एक सूचकांक बनाया है जिसे सेंसेक्स कहते है.

सेंसेक्स में उन 5000 कंपनियों में से केवल 30 सबसे बड़ी कंपनियों के शेयर्स की वैल्यू का औसत निकाला जाता है और सेंसेक्स के मान का निर्धारण किया जाता है.

यदि उन 30 कंपनियों के शेयर्स के मूल्य में बढ़ोतरी होती है तो सेंसेक्स का मान बढ़ता है जिससे यह अनुमान मिलता है की Share Market की Growth अच्छी है और यदि उन 30 कंपनियों के शेयर्स की वैल्यू कम हो जाती है तो सेंसेक्स का मान गिर जाता है जिससे हमे यह अनुमान मिलता है की शेयर बाज़ार में मंदी का समय है.

इस प्रकार शेयर मार्केट में ग्रोथ व मंदी की जानकारी देने के लिए BSE ने सेंसेक्स के रूप में अपना एक सूचकांक बनाया है जो 30 सबसे बड़ी कंपनियों के Shares की एवरेज वैल्यू पर निर्धारित होता है.

जिस प्रकार Bombay Stock Exchange मार्केट का अपना एक सूचकांक इंडेक्स सेंसेक्स है.जिसमे 30 कंपनी के शेयर की औसत वैल्यू होती है.ठीक उसी प्रकार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज NSE का भी अपना एक सूचकांक है जिसे NIFTY कहा जाता है.NIFTY में 50 सबसे बड़ी कंपनियों के शेयर्स की वैल्यू होती है.

इस प्रकार निफ्टी और सेंसेक्स दोनों के द्वारा शेयर मार्केट की स्थिति की जानकारी सभी निवेशको व आम जनता को मिलती है.जिससे उसके बाज़ार में Growth आदि की जानकारी प्राप्त हो जाती है.

अब यदि आगे से आपने अख़बार में पढ़ा की निफ्टी या सेंसेक्स का मान नीचे गिर कर बंद हुआ तो इसका मतलब है की शेयर मार्केट में बहुत घाटा हुआ है और यदि निफ्टी और सेंसेक्स का मान बढ़कर ऊपर चढ़ गया है तो इसका मतलब है की शेयर मार्केट मुनाफे में है.


जितना ज्यादा निफ्टी व सेंसेक्स का मान बढ़ता या घटता है शेयर मार्केट उतना ही प्रभावित होता है.

यदि आपका निफ्टी और सेंसेक्स से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट कर सकते है.इसी तरह की अलग - अलग ज्ञानवर्धक जानकारियाँ प्राप्त करने के लिए आप हमारे ब्लॉग को डेली विजिट करे.पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे.
--
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।