शेयर बाज़ार में IPO ( आईपीओ ) क्या होता है ?

यदि आप Share Market में इंटरेस्ट रखते है तो आपने आईपीओ के बारे में ज़रूर सुना होगा.लेकिन क्या आप जानते है की वास्तव में IPO क्या होता है.कैसे शेयर बाज़ार में कंपनी अपना आईपीओ लाती है.और Stock Exchange Market में IPO लाने के पीछे कंपनी का क्या मकसद होता है ?

यदि आप भी इन सभी सवालों के जबाव जानना चाहते है तो आज की पोस्ट को पूरा ज़रूर पढ़े.और अपनी शेयर मार्केट से सम्बंधित जानकारी को बढ़ाये.

share-market-me-ipo-kya-hota-hai




शेयर बाज़ार में आईपीओ क्या होता है,What is IPO in Share Market ?

यह पोस्ट आपको तभी समझ में आएगी जब आप शेयर बाज़ार के बारे में जानते होंगे.इस कारण शेयर बाज़ार क्या होता है और इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे ब्लॉग की यह पोस्ट ज़रूर पढ़ ले.



IPO का Full Meaning Initial Public Offering होता है.इसका हिंदी मतलब "सार्वजनिक प्रस्ताव " होता है.

IPO शेयर बाज़ार से सम्बंधित शब्द है.इसका मतलब है की जब एक नयी कंपनी या पुरानी कंपनी शेयर बाज़ार में अपने Common Stock या Share पहली बार जनता के लिए जारी करती है तो इसके शेयर बाज़ार की भाषा में आईपीओ कहा जाता है.इसका मतलब होता है की किसी कंपनी द्वारा शेयर बाज़ार में अपना आईपीओ लाया गया है.पहली बार आम लोगों के बीच शेयर उतारने की प्रक्रिया इनिशियल पब्लिक ऑफर (आईपीओ) पेशकश कहलाती है।

आईपीओ लाने के बाद शेयर मार्केट में जो इन्वेस्टर ( निवेशक ) होते है वो कंपनी के शेयर खरीदकर शेयरहोल्डर बन जाते है.

अब हम आपको आईपीओ का अर्थ बहुत सरल तरीके से समझाते है -

1 - मान लीजिये किसी कंपनी को 50लाख रूपये की जरुरत होती है.

2 -अब कंपनी 50 लाख रूपये इकठा करने के लिए SHARE MARKET में LISTED हो जाती है.

3 -अब कंपनी शेयर बाज़ार में अपना आईपीओ लाती है और उसमे 100 शेयर करती है 50000 रुपये प्रति शेयर की दर से.

4 - अब मान लीजिये की आईपीओ लाने के बाद 100 निवेशको ने कंपनी के 100 शेयर खरीद लिए.इसका मतलब कंपनी को अपने Share Sell करके 50 लाख रूपये प्राप्त हो गये.

5 - अब कंपनी ने सीधे 50 लाख रूपये कमा लिये.

बस इसी प्रकार जब भी कंपनी को अधिक मात्रा में पूँजी चाहिए होती है तो वह अपना आईपीओ लाती है.



कंपनियों द्वारा Share Market में IPO क्यों लाया जाता है ?


देखिये इसका सीधा सा मतलब पैसा इकठा करना होता है.जब भी कोई कंपनी अपना IPO लाती है तो उसके पीछे उसकी यह मंशा रहती है की वह अपने Share शेयर मार्केट में लाएगी और इन शेयर को दुसरे इन्वेस्टर खरीद लेंगे.जब भी कोई इन्वेस्टर कंपनी के शेयर ख़रीदे गा तो कंपनी को फायदा होगा.जब कंपनी अपने सारे Share Sell कर देगी तो Company के पास काफी पूँजी इकठी हो चुकी होगी.इसी कारण कंपनिया जब अपने बिजेनस को बढ़ाना चाहती है तो वह अपना आईपीओ लाती है.


जिससे उनको धन मिलता है और उस धन का इस्तेमाल करके Company अपने नए प्रोजेक्ट लाती है.आपके तो पता ही है की जब कंपनी अपने Share Sell करती है तो उसको पैसे प्राप्त होते है.

जब भी कोई Company अपने Share Stock Exchange Market में Listed करवाती है तो उसके पीछे उसका एक मात्र कारण धन ( पूँजी ) इकठा करना होता है.

Company अपना Initial Public Offering कहाँ लाती है ?


भारत में 2 Stock Exchange Market है एक NSE है जिसका नाम National Stock Exchange है और दूसरा BSE है जिसका नाम BOMBAY Stock Exchange है.इन स्टॉक एक्सचेंज मार्केट में कंपनी अपना आईपीओ जारी करती है,यहीं पर इन्वेस्टर इनके Share Buy कर सकते है.

बहुत सी कंपनी अपना आईपीओ लाती है जैसे Eicher Motors,Reliance,MRF आदि.

Share Market में Company अपना आईपीओ कैसे लाती है ?


शेयर बाज़ार में आईपीओ लाने के लिए कंपनी को बहुत मंजूरी लेनी होती है.सबसे पहले कंपनी के Share Promoters लोग  SEBI के पास जाते है.यदि सेबी कंपनी को इजाजत देती है तभी कंपनी शेयर बाज़ार में लिस्टेड हो सकती है.यदि आप सेबी के बारे में नहीं जानते है तो हमारी यह पोस्ट पढ़े.

यदि अब भी आपका आईपीओ से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट करे हम आपके सभी सवालों का जबाव देंगे.इसी तरह की अन्य Share Bazar Realted Knowledge Blog Post के लिए आप हमारे ब्लॉग को प्रतिदिन पढ़े.
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


No comments:

Post a comment

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।