Blogger Blog में Custom Domain क्यों Add करना चाहिए इसके क्या Benefits है ?

--
Blogger पर ब्लॉग बनाने पर एक subdomain ( blogspot.com ) फ्री में मिल जाता है। यदि कोई नया ब्लॉगर चाहे तो इस subdomain के साथ ही ब्लॉगिंग की शुरुवात कर सकता है लेकिन मैं आपको सलाह दूंगा कि इस फ्री मिलने वाले subdomain की जगह ब्लॉगर ब्लॉग में एक custom domain ( .com,.in,.net ) ऐड करके blogging शुरू करे। 

लेकिन बहुत से नये ब्लॉगर जानना चाहते है कि एक subdomain वाले blogger blog की तुलना में custom domain वाला blogger blog क्यों बेहतर है ? Blogger में Custom Domain Add क्यों करना चाहिये। तो आइये सबसे पहले इसके बारे में जान लेते है। 

blogger-blog-me-custom-domain-add-kyo-karna-chahiye-blog-me-custom-domain-add-karne-ke-benefits

Blogger Blog में Custom Domain Add करना क्यों जरूरी है ? ब्लॉगर ब्लॉग में कस्टम डोमेन ऐड करने के क्या फायदे होते है ?


Subdomain वाले blogger blog की तुलना में Custom domain वाला blogger blog कई मामलों में बेहतर है। जैसे 

Custom Domain वाले Blogger Blog को Google Adsense के लिये जल्दी Apply किया जा सकता है - 


ब्लॉग पर गूगल ऐडसेंस के विज्ञापन लगाकर ऑनलाइन पैसे कमाये जा सकते है लेकिन इसके लिये ब्लॉग को गूगल ऐडसेंस के लिये अप्लाई करना पड़ता है। Blogger में तब तक किसी Blog को Google Adsense के लिये Apply नहीं किया जा सकता है जब तक Google Adsense Apply करने के Qualify/Eligible नहीं हो जाता है।

ब्लॉग ऐडसेंस के लिये योग्य होने के बाद ही Blogger Blog के Earnings सेक्शन में Adsense Sign up का ऑप्शन नजर आता है। Subdomain वाले blogger blog को Google Adsense Apply करने के लिये Qualify/Eligible होने में अधिकतम 6 महीने का वक़्त लग सकता है। फिर कहीं जाकर आप अपने ब्लॉग को ऐडसेंस के लिये अप्लाई कर सकते है। 

लेकिन Custom domain वाला blogger blog अधिकतम 3 महीनों में ही गूगल ऐडसेंस अप्लाई करने के योग्य हो जाता है। इस कारण यदि आप अपने ब्लॉग को कम समय में ही गूगल ऐडसेंस के लिये अप्लाई करना चाहते है तो ब्लॉग में custom domain ऐड जरूर करे। 

Subdomain वाले Blogger Blog की तुलना में Custom Domain वाला Blogger Blog Search Engines में जल्दी Rank करता है -


Subdomain (blogspot.com ) वाले ब्लॉगर ब्लॉग भी गूगल में रैंक करते है। लेकिन वह कुछ पुराने होने चाहिए। यदि आपका blogspot.com subdomain वाला ब्लॉगर ब्लॉग छ: महीने - एक साल पुराना है तो वह गूगल में रैंक करना शुरू हो जायेगा और आपके ब्लॉग पर ट्रेफिक आना शुरू हो जायेगा। 

लेकिन Custom domain वाला blogger blog आसानी से कुछ ही महीने में गूगल में रैंक करना शुरू हो जाता है। यदि आप ब्लॉगर ब्लॉग में कस्टम डोमेन ऐड करके बढ़िया ब्लॉग पोस्ट लिखते है तो वह कुछ ही महीनों में गूगल में अच्छी जगह रैंक करेगी। 

परंतु ब्लॉगिंग में मेहनत बहुत जरूरी है। लेकिन यह बात पूरी तरह से साफ है कि यदि आप उतनी ही मेहनत Custom domain वाले blogger blog पर करेंगे जितनी आप एक subdomain वाले ब्लॉगर ब्लॉग पर कर रहे है तो कस्टम डोमेन वाला ब्लॉगर ब्लॉग आपको बहुत जल्दी अच्छे रिज़ल्ट देगा। Custom domain वाला ब्लॉग एसईओ की नजर से भी अच्छा है। 

Blogger Blog को Professional Look मिलेगा - 


आप जितनी भी कोशिश करे लेकिन Subdomain (blogspot.com ) वाले ब्लॉगर ब्लॉग को प्रॉफेश्नल नहीं बना सकते है। लेकिन एक Custom domain (.com,.in ) को ऐड करने से ब्लॉग अपने आप प्रॉफेश्नल बन जाता है। 

क्योंकि इंटरनेट पर अधिकांश Professional Blogs में Custom Domain ही ऐड होता है। बहुत कम ऐसे फ़ेमस ब्लॉग है जो अभी भी subdomain के साथ ही चल रहे है। 

Custom domain वाले ब्लॉगर ब्लॉग का यूआरएल यूजर्स को याद रहता है - 

subdomain से ब्लॉग का यूआरएल बहुत लंबा हो जाता है। लेकिन Custom domain ऐड करने से ब्लॉग का यूआरएल छोटा सा हो जाता है जिसे ब्लॉग पर आने वाला यूजर आसानी से याद रख सकता है। 

इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि कोई भी यूजर आसानी से ब्लॉग का यूआरएल एड्रैस टाइप करके ब्लॉग को डायरेक्ट ओपन कर सकता है। इससे ब्लॉग के साथ Loyal Audience जुड़ना शुरू हो जायेगी। 


Blogging Community में जल्दी स्थापित हो जायेंगे 


यदि आप Subdomain (blogspot.com ) वाले ब्लॉगर ब्लॉग का ही इस्तेमाल कर रहे है तो हो सकता है,ब्लॉगिंग के क्षेत्र में स्थापित पुराने ब्लॉगर आपको ज्यादा सिरियस न ले। क्योंकि वे ब्लॉगर अपने ब्लॉगिंग अनुभव में ऐसे बहुत से  blogspot.com subdomain वाले ब्लॉग को देख चुके है जो कुछ ही महीनों में बंद हो जाते है। 

लेकिन यदि आप अपने ब्लॉगर ब्लॉग में custom domain ऐड कर रहे है तो इससे दूसरे ब्लॉगर को लगता है कि आप ब्लॉगिंग के प्रति सिरियस है और ब्लॉगिंग करना चाहते है। इससे ब्लॉगिंग के क्षेत्र में स्थापित पुराने ब्लॉगर आपको हल्के में नहीं लेंगे। 

इस कारण ब्लॉगिंग कम्यूनिटी में स्थापित होने के लिये,एक ब्लॉगर के रूप में स्थापित होने के लिये,दूसरे ब्लॉगर के साथ अच्छे संपर्क स्थापित करने के लिये  ब्लॉगर ब्लॉग में कस्टम डोमेन ऐड जरूर करे।

Blogger Blog में Custom Domain Add करने के लिये Custom Domain कहाँ से खरीदे ? कस्टम डोमेन खरीदने के लिये सबसे अच्छी वेबसाइट


यदि आपने ब्लॉगर ब्लॉग में कस्टम डोमेन ऐड करने का सोच लिया है तो आइये अब जान लेते है कि आपको किस वेबसाइट से नया डोमेन खरीदना चाहिए। 

इंटरनेट पर आपको हजारों Domain Registration Website मिलेगी लेकिन मेरी सलाह है आप केवल इन वेबसाइट से ही डोमेन खरीदे। जैसे :-
  • Godaddy
  • Bigrock
  • Hostgator 
वैसे आप चाहे तो किसी भी वेबसाइट से नया डोमेन खरीद सकते है। लेकिन सस्ते के चक्कर में न पड़े किसी अच्छी वेबसाइट से डोमेन खरीदे। 

Blogger Blog में कौनसा Custom Domain Add करना चाहिये .IN या .COM ? 


आमतौर पर .Com डोमेन सबसे ज्यादा उपयोग होता है। क्योंकि ज़्यादातर ब्लॉग या वेबसाइट में यही ऐड होता है। लेकिन आप विशेष रूप से ब्लॉग को इंडिया में रैंक करवाना चाहते है और इंडियन ट्रेफिक चाहते है तो .IN Domain चुन सकते है। 

मैं आपको सलाह दूंगा कि आप अपने ब्लॉगर ब्लॉग में .IN या .COM कस्टम डोमेन में से कोई भी डोमेन ऐड कर सकते है। .COM डोमेन आपको 600 से 900 रुपए प्रति वर्ष कीमत में मिल जायेगा और .IN डोमेन 400 से 700 रुपए प्रति वर्ष कीमत में मिल जाता है। जिसे एक साल के अंदर - अंदर आपको Renew करवाना होता है। 

हमेशा ब्लॉग में Top Level Custom Domain ही ऐड करे कभी भी सस्ते के चक्कर में कोई उल्टा-सीधा डोमेन ब्लॉग में ऐड करने की गलती न करे। 

मैं खुद एक साल से ज्यादा समय तक सबडोमेन वाले ब्लॉगर ब्लॉग के साथ ही ब्लॉगिंग कर चुका हूं लेकिन कभी भी मुझे मेहनत के अनुरूप रिज़ल्ट नहीं मिला लेकिन जब मैंने Custom domain add किया तो मुझे शुरुवाती 3 महीनों में ही अच्छे रिज़ल्ट मिलने लगे जिससे मेरे ब्लॉग का ट्रेफिक बढ़ना शुरू हो गया। 

इस कारण यदि आप Blogging से हजारों रुपए कमाने की सोच रखते है तो 500 - 1000 रूपये का शुरुवाती निवेश करके एक कस्टम डोमेन खरीदकर ब्लॉगर ब्लॉग में ऐड करके ही ब्लोगिंग की शुरुवात करे। 
लेकिन यदि आपके पास कस्टम डोमेन खरीदने के लिये पैसे नहीं हैं तो फिर ही आप Subdomain वाले ब्लॉगर ब्लॉग के साथ ही ब्लॉगिंग शुरू करे। शुरुवात में मेरे पास भी पैसे नहीं थे,मैं उन लोगो की पीड़ा को आसानी से समझ सकता हूं जिनके लिये एक हजार रूपये जोड़कर कस्टम डोमेन खरीदना भी बहुत मुश्किल काम है। लेकिन हार न माने। 

मुझे उम्मीद है कि इस पोस्ट से आपकों "ब्लॉगर ब्लॉग में कस्टम डोमेन ऐड क्यों करना चाहिये इसके क्या फायदे है" टॉपिक से जुड़े तमाम सवालों के जबाव मिल गये होंगे। यदि फिर भी कोई सवाल रह गया हो तो आप कमेंट जरूर करे। 

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


4 comments:

  1. Bhai mai abhi beginner hoon🙏.
    Maine start time me blogspot. Com se start kiya tha. Maine search council me v add kr diya tha.
    Phir maine coustam domain adda kiya hai 1000 hosteger se tu kiya hme search council me fir se add krna pdega...
    Please bhai jawab dena

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yes. आपको फिर से Custom Domain को Search Console में Add करने के बाद उसका Sitemap भी दुबारा से Submit करना होगा।

      Delete
  2. bhai mene ek .com custom domain kharida tha lekin isse pahle mere blog ka .xyz domain tha lekin google par abhi bhi meri site xyz domain wali show ho rhi hai halanki mene .com domain ko google search console me sumbit bhi kar diya hai. agar koi xyz wali site par click karta hai to vhaa par 404 ka error aata hai. me google se xyz domain wali site remove kaise kru. plz reply me

    ReplyDelete
    Replies
    1. Automatic Remove Ho Jayegi.Aapko Tension Lene Ki Koi Jarurat Nahi Hai.

      Delete

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।