तांगा चलाने वाले का बेटा बना उद्योगपति - धर्मपाल गुलाटी की प्रेरणादायक कहानी

इस साल एमडीएच (MDH) मसालों के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी पद्म भूषण से भी नवाजे जा चुके है.इस आर्टिकल में हम आपको उनकी प्रेरणादायक कहानी के बारे में बताने वाले है.इनका जन्म 27 मार्च 1923 को सियालकोट ( पाकिस्तान ) में हुआ था.इनके पिता जी जिनका नाम चुन्नीलाल था.वे वहाँ पर मसालों की दुकान चलाते थे.धर्मपाल गुलाटी की प्रारभिक शिक्षा भी वही पर हुयी और वे केवल 5 वीं कक्षा तक ही विद्यालय गए थे.उनके पिता को पता चला की उनका बेटा पढने में रूचि नहीं ले रहा है तो उनको छोटी सी उम्र में एक बढई के साथ काम करने लगा दिया.लेकिन धर्मपाल गुलाटी को यह काम भी पसंद नहीं आया था.जैसे-तैसे उन्होंने काम करना शुरू किया.


Hindi-Inspirational-Stories-Hindi-Motivational-Stories-Inspiring-Story-of-dharmpal-gulati-in-hindi

Hindi Inspirational Stories,प्रेरणादायक हिंदी कहानी संग्रह,महापुरषों की जीवन की प्रेरणादायक कहानियां,धर्मपाल गुलाटी ( एमडीएच् मसाला कंपनी )  की प्रेरणादायक कहानी,Motivational Hindi Story,Inspiring Story in Hindi

short motivational story in hindi for success,inspirational story in hindi language,motivational story in hindi for depression,short motivational stories in hindi with moral,success story in hindi for student,motivational stories in hindi for employees,motivational stories in hindi for students pdf,motivational story in english and hindi


लेकिन 1947 में देश विभाजन के समय उनके परिवार को पाकिस्तान से भारत में आना पड़ा.तब उनके पिता जी ने तांगा चलाने का निश्चय किया जिससे परिवार को दो वक़्त की रोजी रोटी मिल सके.खुद धर्मपाल गुलाटी ने भी कुछ समय तक तांगा चलाया था.धर्मपाल गुलाटी भी पिता के साथ मेहनत करने लगे और दिल्ली में अजमल खां रोड पर खोखा बनाकर दाल, तेल, मसालों की दुकान खोल कर कारोबार करने लगे.चूंकि उनको बचपन में पिता के साथ मसालों के बेचने,आदि का अनुभव था जिसके कारण उनको इस काम में तरक्की मिलने लगी.

धीरे-धीरे धर्मपाल गुलाटी की मेहनत रंग लायी और उन्होंने वर्ष 1959 में एमडीएच मसाला फैक्ट्री की नींव रखी.उनका यह कदम सही साबित हुआ.बहुत कम समय में ही उनकी मसाला कंपनी भारत की नंबर एक मसाला कंपनी बन गयी और देखते ही देखते ( महाशियां दी हट्टी ) MDH कंपनी 60 से अधिक प्रकार के मसाले बनाकर देश के अन्दर और बाहरी देशो में निर्यात करने लगी.अब उनकी पूरे देश में 15 मसाला निर्माण फैक्ट्री है.जिसमे से 5 से अधिक तो केवल दिल्ली में ही स्थापित है.

इस प्रकार धर्मपाल गुलाटी ने जिस कंपनी की शुरुवात की थी वो भारत की एक लोकप्रिय मसाला कंपनी बन चुकी है.जो विदेशो में भी कारोबार करती है.तो देखा की कैसे एक पांचवी पास बच्चे ने वो कर दिखाई जिसके बारे में लोग सोच भी नहीं सकते है.उनके जीवन से हमे प्रेरणा मिलती है की जीवन में संघर्ष ही एक मात्र ऐसा रास्ता है जो आपको मंजिल की तरफ लेकर जाता है.मंजिल को पाने के लिए कोई शॉर्टकट नहीं होता है.धर्मपाल गुलाटी के जीवन की इस प्रेरणादायक कहानी को पढ़कर आप क्या सोचते है,कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे.यदि आपको आर्टिकल पसंद आया है तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर भी ज़रूर करे.
--
-*-

जानकारी अच्छी लगी है तो Facebook Page Like जरूर करे

Share This Post :-


2 comments:

आपको पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखे,यदि आपका कोई सवाल है तो कमेंट करे व उत्तर पाये ।